top of page

कामकाजी महिलाएं और उनका स्वास्थ

Updated: Feb 13, 2023


घर संसार चलाती महिलाओं से अगर यह पुछा जाए कि अब तुमने आखिरी दफा़ खु़द पर ध्यान दिया हो या खु़द की खुशी के लिए कोई काम किया हो तो शायद बातें ख़त्म हो जाएं पर जवाब मिलना मुश्किल होगा।


बात कड़वी है लेकिन अपने घर परिवार और बच्चों से भावनात्मक रुप से जुड़े रहने से ये बात किसी भी महिला को अपनी पूरी जिंदगी में कभी न कभी तो सुननी ही पड़ती है । लेकिन हकीकत तो ये है कि महिलाएं अपनी पूरी जिंदगी में किसी भी पुरुष की तुलना में सबसे ज्यादा काम करती हैं । महिलाओं के करीबन रोज के चार से पांच घंटे घरेलू कामकाज करने में जाते है । घर परिवार को संभालने के साथ अगर वो घर से ही कोई अपनी ही कोई छोटी मोटी बिजनेस भी चला रही होती है तो उनका काम और ही ज्यादा बढ़ जाता है । घर के काम और अपना बिजनेस संभालने के बीच तालमेल बिठाने के चक्कर में ज्यादातर महिलाएं अपने स्वास्थ का ध्यान नहीं रखती है । यही कारण है कि एक उम्र के बाद पुरुषों की तुलना में महिलाओं में स्वास्थ को लेकर तकलीफें ज्यादा देखने को मिलती है ।


अच्छे मन का संबंध अच्छे स्वास्थ से होता है । महिलाओं के मामले में ये बात और भी ज्यादा महत्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि परिवार में सभी सदस्यों के बीच तालमेल बनाएं रखने के लिए उसे भावनात्मक स्तर पर भी मजबूत बने रहना बहुत जरुरी होता है । वैसे आजकल महिलाएं खुद को लेकर काफी जागरुक हो चुकी है लेकिन आज भी ज्यादातर महिलाएं घर परिवार, पति बच्चों और काम के बीच अपनी तबियत को सबसे पीछे रखती है । किसी भी घर में पुरुष के एक दिन बीमार होने पर घर की व्यवस्था पर बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है लेकिन वहीं महिला के बीमार होने पर एक ही दिन में सारी व्यवस्था गड़बड़ हो जाती है और ये ही एक कारण है कि महिलाएं बीमार होने की बाद भी काम करना नहीं छोड़ती ।


एक सर्वे के अनुसार कामकाजी महिलायें डिप्रेशन, मोटापा, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और थायराइड जैसी लाइफ लास्टिंग बीमारियों का ज्यादा शिकार होती है ।



तो क्या उनकी इस समस्या का कोई उपाय है ?


उपाय तो है और उसे जानना भी बहुत जरुरी है । कुछ बातें ऐसी होती है जो हर महिला को परेशान करती है, लेकिन वो किसी से अपनी परेशानी कह नहीं पाती है । अपने स्वास्थ से थोड़ा सा भी बांधछोड़ कर महिलाएं कुछ ऐसी बीमारियों हमेशा के लिए अपने शरीर में रहने के लिए आमंत्रण दे देती है जिससे उनका शरीर ही नहीं बल्कि मन भी प्रभावित होता है । महिला ईश्वर की एक ऐसी अद्भुत कृति है जिसके पास अपार शक्तियां तो हैं लेकिन वहीं उसकी अपनी कुछ शारीरिक सीमाएं है, जिसकी वजह से उसे कई बार आधे रास्ते से पीछे हट जाना पड़ता है ।


Designs Insiders महिलाओं को उनके देखे गए सपनों को साकार करवाने के लिए प्रतिबद्ध है । इसीलिए हर हफ्ते हम एक नई तैय्यारी के साथ आपकी जिंदगी और कामकाज से जुडी ऐसी बातों और अनुभवों को लेकर आते हैं, जिसे आप अपनेपन के साथ कहीं और से हासिल नहीं कर सकते । स्वस्थ रहने का मतलब केवल शारीरिक रुप से स्वस्थ रहने से ही नहीं होता है, मन की तबियत का ख्याल न रखा जाएं तो सारी गड़बड़ वहीं से शुरु होना चालू होती है । यही वजह है कि आजकल स्वास्थ और मन को लेकर हेल्थ वेलनेस शब्द बहुत ही ज्यादा प्रचलित हो रहा है ।




आखिर क्या है हेल्थ वेलनेस ? कैसे महिलाएं खुद रोज थोड़ा सा वक्त देकर हैरान परेशान करने वाली शारीरिक बीमारियों से दूर रहकर एक सफल कामकाजी महिला बन सकती है ? इन सब सवालों के जवाब पाने के लिए Designs Insiders ने अपने इस बार के इंस्टाग्राम लाइव शो में रविवार, 29 जनवरी २०२३ को आमंत्रित किया है बोकारो , झारखंड हेल्थ फिटनेस ट्रेनर नीलम जी को





नीलम जी कुछ सालों पहले एक सामान्य महिला की तरह अपना जीवन बीता रही थीं लेकिन वक्त के साथ थायराइड और मोटापे जैसे शारीरिक तकलीफों ने उनको परेशान करना शुरु कर दिया था । उन्होंने खुद पर कुछ ऐसे प्रयोग किए जिसके बलबूते पर आज वे इन दोनों तकलीफों से दूर है और पूरी तरह से स्वस्थ है । 2020 से उन्होंने महिलाओं की हेल्थ वेलनेस पर काम करना शुरु किया और आज वे खुद को सफल फिजिकल ट्रेनर के रुप में स्थापित कर चुकी है । अब तक वे भारत के साथ कुवैत और कई देशों में अपने ट्रेनिंग सेशन ले चुकी हैं और ऑनलाइन लाइव ट्रेनिंग के माध्यम से वो महिलाओं में हेल्थ अवेरनेस लाने के लिए प्रयासरत है ।


आप भी नीलम जी से मिल हेल्थी लाइफ स्टाइल की कुछ टिप्स पा सकती हैं रविवार, २९ जनवरी को Designs Insiders के इंस्टाग्राम लाइव शो पर ।


Commenti

Valutazione 0 stelle su 5.
Non ci sono ancora valutazioni

Aggiungi una valutazione
bottom of page