top of page

बिजनेस शुरु करने के लिए पैसा कैसे जुटाएं?

कलात्मक क्षेत्र से जुड़ा हुआ हर इंसान जिंदगी में कम से कम एक बार ये सपना तो जरुर देखता है कि उसका अपना खुद का एक बिजनेस हो। खासकर युवावर्ग में आजकल एंटरप्रिन्योर के साथ साथ सोलोप्रिन्योर शब्द भी बहुत ज्यादा प्रचलन में है। बिजनेस किसी भी इंसान के उम्र के दायरों में सिमटा हुआ नहीं होता है। कोई भी इंसान अपने अनुभव और हुनर के आधार पर उम्र के किसी भी पड़ाव में अपना खुद का बिजनेस शुरु कर सकता है।


बिजनेस शुरु करने के लिए अनुभव और हुनर के साथ हिम्मत की भी जरुरत पड़ती है। हिम्मत नाम की ये जादुई शक्ति हर किसी के अंदर मौजूद होती ही है, जो थोड़ी सी प्रेरणा मिलने पर अपना असर दिखाना शुरु कर देती है। लेकिन फिर भी अपने काम में काबिल ज्यादातर लोगों के साथ दिक्कत की बात तो ये होती है कि वो जिंदगी के आखरी पड़ाव तक पहुंचने के बावजूद भी अपना बिजनेस शुरु नहीं कर पाते हैं।


जिंदगी में सपने को हकीकत में न बदल पाने के कारण और रुकावटें और भी कई हो सकती है। हुनरमंद इंसान का किसी छोटे से कस्बे या गांव में रहना भी इसका एक कारण हो सकता है। बदलते वक्त के अनुसार अपने हुनर से संबधित सारी जानकारी का अभाव होने से भी सफलता यात्रा आधे रास्ते पर भी बंद कर देना पड़ता है। कई बार पैसों की कमी की वजह से भी अपना बिजनेस शुरु न कर पाने का अफसोस मनाना पड़ता है।


समस्याएं, कारण और रुकावटें कितनी भी बड़ी क्यों न हो, उनसे निपटने और आगे बढ़ने का कोई न कोई उपाय और रास्ता थोड़ी सी कोशिश करने पर मिल ही जाता है। इंटरनेट और डिजिटलाइजेशन की बदौलत अपने हुनर से संबधित बिजनेस किसी गांव में अपने परिवार के साथ रहकर भी शुरु किया जा सकता है। सवाल केवल सही और पूरी जानकारी तथा पैसों के जुगाड़ को लेकर रह जाती है। बिजेनस शुरु करने की राह में आड़े आने वाले इस सवाल का जवाब ।

Designs Insiders के पास है एंटरप्रिन्योर्स और सोलोप्रिन्योर्स को आगे लाने के लिए बहुत से एक्सपर्ट जो बताएंगे सरकार के द्वारा बनाई गई बहुत सी योजनाएं , जिसकी बदौलत बड़ी ही आसानी से पैसे यानी फायनेंस से जुड़ी हुई मुश्किलों से निपटा जा सकता है। लेकिन बात बिजनेस के लिए फायनेंस जुटा लेने के बाद खत्म नहीं हो जाती है क्योंकि छोटे बड़े किसी भी बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए सही फायनेंशियल प्लानिंग और सही निर्णय का होना बहुत जरुरी है।


Designs Insiders के इस हफ्ते के तैय्यारी सेशन में कुछ इन्हीं मुद्दों पर कुछ खास बातें करने आ रहे हैं Annirudh Parvartikar जो कि NBFC ( एम एस एम ई) और एच एफ़ सी इंडस्ट्री में ट्रेज़री मैनेजर हैं।


अनिरुद्ध इस सेशन में बताएंगे कि उद्योग कार्ड और सर्टिफिकेट क्या होता है ,ये उद्योगों के लिए क्यूं जरुरी है | उद्योग साहसिकों के लिए कौन कौन सी सरकारी योजनाएं है, जहां से आसान किस्तों में लोन मिल सकता है | ऐसी और भी बहुत सी काम की बातें होगीं Designs Insiders के 5 मार्च के लाइव इंस्ट्राग्राम शो में अनिरुद्ध परवर्तीकाल के साथ शाम 7 बजे।


bottom of page